आम लोगों की भागीदारी से नया रायपुर के चौक-चौराहों का नामकरण होगा। इसके लिए जनप्रतिनिधियों और आम लोगों से ऑनलाइन सुझाव मंगाए जाएंगे नाम चुनने के लिए ऑनलाइन प्रतियोगिता भी होगी। प्राप्त सुझावों पर एक उच्च स्तरीय समिति विचार कर निर्णय लेगी। यह निर्देश मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने अफसरों को दिए। मुख्यमंत्री ने इस संबंध में मंगलवार को अपने निवास पर आला अफसरों की बैठक ली। अफसरों ने बताया कि नया रायपुर में 16 प्रमुख मार्गों और 32 चौराहों का नामकरण किया जाना है। नामकरण में छत्तीसगढ़ और राष्ट्रीय परिवेश का ध्यान रखा जायेगा। संसदीय कार्य मंत्री अजय चंद्राकर, लोकनिर्माण मंत्री राजेश मूणत, पर्यटन एवं संस्कृति मंत्री दयाल दास बघेल, छत्तीसगढ़ी राजभाषा आयोग अध्यक्ष डॉ. विनय कुमार पाठक, मुख्यसचिव विवेक ढाँड, मुख्यमंत्री के प्रमुख सचिव अमन कुमार सिंह, सचिव सुबोध सिंह, पर्यटन, संस्कृति और जनसम्पर्क विभाग के सचिव संतोष मिश्रा, नया रायपुर विकास प्राधिकरण के मुख्य कार्यपालन अधिकारी रजत कुमार, कुशाभाऊ ठाकरे पत्रकारिता एवं जनसंचार विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. मानसिंह परमार, नामकरण समिति के सदस्य सुरेन्द्र दुबे, लक्ष्मी शंकर निगम और अशोक तिवारी भी बैठक में मौजूद थे।

विद्या, पटेल,कर्मा के नाम भी हों शामिल

प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष भूपेश बघेल ने कहा है कि नया रायपुर में चौक-चौराहों का नाम रखते वक्त कांग्रेस के उन नेताओं का नाम भी शामिल किया जाए जिन्होंने माओवादी हमले में अपनी जान दी है। बघेल ने सरकार की इस पहल का स्वागत किया। कांग्रेस के विद्याचरण शुक्ल पूर्व काग्रेस अध्यक्ष नंद कुमार पटेल, महेन्द्र कर्मा, दिनेश पटेल, योगेन्द्र शर्मा, अभिषेक गोलछा, गोपी माधवानी के नाम शामिल करने की मांग की है।