Category Archives: fun

The Chhattisgarh Housing Board (CGHB) will be developing an ultra modern Club House with Public Private Partnership (PPP) at Sector 27 in the new capital region, officials informed.

The Club House will be built on ‘Design, Finance, Build , Operate and Transfer (DFBOT) basis, officials informed.

Keeping the requirement of Sector 27 and surrounding residential township and commercial areas in consideration, CGHB has proposed to develop a high end club facility on public private partnership. The total estimated project cost is Rs 14.00 crores.

The club is proposed to be integrated with premium quality sports, convention and recreation facilities. The total land area available for the development of Project is 1.21 acres (53100 Sqft), out of which 25700 Sqft. shall be used for the development of party lawn, banquet hall, restaurant, swimming pool, lobby on ground floor, 19500 Sqft on first floor and 17700 sqft. on second floor whereas 19500 sq. ft. will be used for the basement parking.

The Naya Raipur Development Authority (NRDA) also will be developing an integrated adventure sports facility at Sendh Lake in the new capital region.

It may be also recalled that the Chhattisgarh government would also re-create models of Bastar and Surguja division jungles and other natural beauty of Chhattisgarh in the proposed Film City to come up at Naya Raipur.

The nature based models would be created for enabling shooting of films which would also help showcase Chhattisgarh in global cinematic space, officials informed.

NRDA has earmarked 10 acres of land for the Film City.

The Chhattisgarh government is now also betting big on promoting film industry by planning to develop world-class film production infrastructure in the State.

Five residential sectors having more than 8000 dwelling units have been completed in Chhattisgarh’s new high tech capital Naya Raipur, officials informed.

The habitation in the residential sectors has also commenced, they informed.

It may be recalled that the NRDA will also develop a ‘Land Management System’ for managing disposal of land for infrastructure development, officials informed.

Naya Raipur as a Smart City will leverage the collective intelligence created by connecting physical, institutional, social and economic infrastructure to deliver a quantum improvement in the quality of life of local population, they informed.

Notably, the new capital city of Chhattisgarh is a ‘green field’ city and is planned to develop its infrastructure gradually in order to provide world class amenities and facilities to its residents and visitors.

NRDA has taken the next step in “Smart City’ development with plans now for ‘Information & Communication Technology” (ICT) enablement of infrastructure and citizen services, officials informed

Notably, Naya Raipur is already among five other cities in the country chosen as ‘Demonstration Cities’ for the Centre’s ambitious Sustainable Urban Transport Project (SUTP).

The final five cities participating as ‘Demonstration Cities’ under Sustainable Urban Transport Project (SUTP) are – Indore (Madhya Pradesh), Mysore (Karnataka), Naya Raipur (Chhattisgarh), Pune and Pimpri Chinchwad (Maharashtra).

Detailed project profiles were prepared by all cities with the assistance of the SUTP Consultants and then endorsed by the SUTP Steering Committee to be included to SUTP as ‘City Demonstration Projects’, officials stated.

It plans of developing a project comprising IT-enabled systems to manage a host of utilities using state-of-art technology.

The design would comprise IT enabled land management system, city surveillance besides a host of other systems till now popular and being used only in the developed countries.

The other city management systems include intelligent lighting systems, pay and use parking systems, city guide map available through web browser, intelligent transport system, city level wi-fi touch screens across the city, display boards across the city for providing real-time information, emergency alert and crisis response systems, traffic re-routing applications based on real time traffic data.

The city would also have an Central Control Centre for monitoring all the services including central traffic control and management system.

It may be recalled that Naya Raipur has emerged in the country with the largest land bank of a mammoth 237 square kilometres ( 23,700 hectares).

The NRDA has plans of developing a ‘Transport Hub’ spread over an area of 161.9 hectares in the new capital city.

The hub would include setting up Light Rail Transport System (LRTS) stations. The area being earmarked for the ‘Transport Hub’ would be 12.55 per cent of the total area of the new capital city, officials stated.

Notably, Naya Raipur is already among five other cities in the country chosen as ‘Demonstration Cities’ for the Centre’s ambitious Sustainable Urban Transport Project (SUTP).

The final five cities participating as ‘Demonstration Cities’ under Sustainable Urban Transport Project (SUTP) are – Indore (Madhya Pradesh), Mysore (Karnataka), Naya Raipur (Chhattisgarh), Pune and Pimpri Chinchwad (Maharashtra).

Detailed project profiles were prepared by all cities with the assistance of the SUTP Consultants and then endorsed by the SUTP Steering Committee to be included to SUTP as ‘City Demonstration Projects’, officials stated.

It is one of the beautiful and the newest lake in Naya Raipur. Sendh Lake is the most beautiful attraction of this planned city of Chattisgarh. The road side along the perimeter of the lake makes a open space for a long drive along it. The drive along the lake side is not less than the Marine Drive of Mumbai.

The new lake is getting more popular as the days goes by. Travelers from all around the world come to its magnificent sunset view. It is a place where anyone can relax peacefully and easily spent an evening with no city rush.

Special in Sendh Lake: A long drive along the Lake perimeter

15726804_1123951077704141_4774461656829808562_n

bpl-rt3050575-large

sendh_lake_whviog

नया रायपुर में सेंट्रल पार्क 32 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया जा रहा है। 70 एकड़ पार्क की लैंड स्केपिंग और कुछ अन्य निर्माण पर खर्च किए जा रहे हैं। यह राशि मुख्य रूप से उद्यान की लैेंड स्केपिंग सहित बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च हो रही है। इसके बाद लगभग इतनी ही राशि दूसरे फेज में खर्च करने की तैयारी है।

सेंट्रल पार्क को जीएमआर चौक के दोनों तरफ उत्तर और दक्षिण हिस्से में बांटकर विकसित किया जा रहा है। प्रत्येक हिस्सा 35 एकड़ का है। दोनों हिस्सों में आम लोगों की सुविधा के हिसाब से बस पार्किंग, कार पार्किंग, टैक्सी स्टैंड, स्कूटर पार्किंग, रेस्टॉरेंट, फूड स्टॉल, टॉयलेट आदि का इंतजाम किया जाएगा।

इमर्सिव डोम पर 7 करोड़

इमर्सिव डोम पर सात करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। जर्मन तकनीक से बने इस अधलेटे अवस्था में डोम पर करीब आधे घंटे की मूवी या डॉक्यूमेंट्री दिखाने का इंतजाम किया गया है। 150 लोगों के एक साथ बैठने की व्यवस्था की गई है। तकनीक से लेकर सारा सामान जर्मन से मंगाया गया है।

ट्रैफिक पार्क

उत्तरी हिस्से में आम नागरिकों और बच्चों को ट्रैफिक नियमों से परिचित कराने केलिए ट्रैफिक पार्क तैयार किया जा रहा है। इस पार्क में ट्रैफिक नियमों को चित्रित किया जाएगा। पार्क बनकर तैयार होगा तो यहां लोग घूमने के साथ ट्रैफिक के मामले में शिक्षित भी होंगे।

बच्चों के लिए खासा खर्च

पार्क में बच्चों के लिए करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। पार्क के उत्तरी हिस्से में स्केटिंग प्लेटफॉर्म तैयार किया जा रहा है। इसके दोनों तरफ सांप-सीढ़ी और चेस का प्लेटफार्म तैयार किया जा रहा है। जिस पर आदमकद गोटियां और रखी जाएंगी, जिसे सरका कर बच्चे खेल सकेंगे। वहीं बड़े बच्चों का पार्क डिवेलप किया जा रहा है, जिसमें झूला के अलावा विभिन्न प्रकार की खेल सामग्रियां रहेंगी।

दक्षिण हिस्से में एम्फीथिएटर

पार्क के दक्षिण हिस्से में एम्फीथिएटर विकसित किया जा रहा है। इस थिएटर में 1500 लोगों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है। थिएटर का इस्तेमाल नाटक आदि के अलावा विविध आयोजनों के लिए किया जा सकेगा।

जोडियक पार्क पर करोड़ों खर्च

पार्क के दक्षिणी हिस्से में जोडियक पार्क विकसित किया जा रहा है, जिसमें राशि के हिसाब से विभिन्न मुद्राएं निर्मित की गई हैं। इस उद्यान पर भी करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। इसके अलावा ग्रह-मंडल का विकास किया जा रहा है, जो तारामंडल की तर्ज पर होगा।

बुजुर्गों के लिए हट्स

उद्यान के दक्षिणी हिस्से में सीनियर सिटीजन हट्स यानी बुजुर्गों के लिए झोपड़ीनुमा संरचना तैयार की जा रही है, जिसमें उनके बैठने और लेटकर आराम करने की व्यवस्था होगी। इसी से लगा एक योगा पार्क भी होगा।

रंगीन मछलियों का तालाब

रंगीन मछलियों का एक छोटा तालाब विकसित किया जाएगा, जिसमें दुनियाभर की रंग-बिरंगी मछलियों को पाला जाएगा। अफसरों का कहना है कि यह पूरे प्रदेश के लिए कौतुहल का विषय बनेगा।

फुलवारी यानी गार्डन आफ फ्रेगरेंस

सेंट्रल पार्क के उत्तरी और दक्षिणी दोनों हिस्सों में दो फुलवारियां विकसित की जाएंगी, जिसे गार्डन ऑफ फ्रेगरेंस नाम दिया गया है। इन पार्क में खुशबूदार फूल के पौधे लगाए जाएंगे।

Nandan Van Zoo & Safari:    

For more Details www.jungalsafari.com

 

 

For More Details Call – 74406 03000, 7440605000, 7440609000

Opens at 10:00 10:00 – 17:30

Address: Sector 39, Khanduwa, Naya Raipur, Chhattisgarh 493661

tim

 


282965_382252101822746_1264199810_n

Mission & Vision :

  • The Nandan Van Zoo & Safari (Jungle Safari,Naya Raipur)will become an important focus for Chhattisgarh and their interest in living in a world where people of all ages are not only delighted by the diversity of the living world that surrounds us, but are committed to protecting the integrity of its “wild life” and “wild places”.

Objectives-:

  • To create a Wild Life Conservation & Awareness centre for the people of Chhattisgarh and for the Tourists across the World.
  • To create a natural, wild education, research cum amusement centre for the people of Naya Raipur.
  • To complement and strengthen the national efforts in conservation of fauna.

The Whole 202.87 Ha area is planned into 8 Zone

  • Monument Zone
  1. Parking Zone

(Parking space for more than 100 Buses, 300 Cars and 640 Two wheelers along with visitor’s and Driver’s Facilities.)

3. Administrative Zone

( Office and Residential Spaces for the official appointed for the Management)

4.Water Zone

( Special Features Like Floating Garden, Water Birds Area, Pathways )

5.Waiting Zone

( This Zone is especially for entertainment purpose of visitors as it has the features like Amphi-theatre, I-Max Theatre, Canteens,Food Courts,Museum, Orientation Center,Floating Deck,Nature Camp)

6.Zoo Zone

The Zoo Zone has many Animal Enclosure with the Landscape theme of Indian Biographical Zone.

7.Safari Zone

This Zone has 4 Safari i.e.,

  1. Herbivore Safari,
  2. Bear Safari,
  3. Tiger Safari
  4. Lion Safari

8.Management Zone

(The No-Visitors Area having Veterinary Hospital, Rescue Center,Conservation & Breeding center and more)

 

14910377_1153781717993034_4580416109861873940_n 14889851_1153782027993003_4668116603806086912_o

 

14889810_1153782917992914_7730641278715732878_o 14753286_1153785154659357_538958550470777909_o 14915126_1153786027992603_6017024912552147258_nGoogle map:

https://www.google.co.in/maps/place/Jungle+Safari+Naya+Raipur/@21.0938988,81.7804808,13z/data=!4m5!3m4!1s0x0:0x3b2644d7c224a15a!8m2!3d21.0938988!4d81.7804808

 

For House Purchase/Sale and Rent at Nayaraipur visit www.greaterraipur.com

नया रायपुर में सेंट्रल पार्क 32 करोड़ रुपए की लागत से तैयार किया जा रहा है। 70 एकड़ पार्क की लैंड स्केपिंग और कुछ अन्य निर्माण पर खर्च किए जा रहे हैं। यह राशि मुख्य रूप से उद्यान की लैेंड स्केपिंग सहित बेसिक इंफ्रास्ट्रक्चर पर खर्च हो रही है। इसके बाद लगभग इतनी ही राशि दूसरे फेज में खर्च करने की तैयारी है।

सेंट्रल पार्क को जीएमआर चौक के दोनों तरफ उत्तर और दक्षिण हिस्से में बांटकर विकसित किया जा रहा है। प्रत्येक हिस्सा 35 एकड़ का है। दोनों हिस्सों में आम लोगों की सुविधा के हिसाब से बस पार्किंग, कार पार्किंग, टैक्सी स्टैंड, स्कूटर पार्किंग, रेस्टॉरेंट, फूड स्टॉल, टॉयलेट आदि का इंतजाम किया जाएगा।

इमर्सिव डोम पर 7 करोड़

इमर्सिव डोम पर सात करोड़ रुपए खर्च किए गए हैं। जर्मन तकनीक से बने इस अधलेटे अवस्था में डोम पर करीब आधे घंटे की मूवी या डॉक्यूमेंट्री दिखाने का इंतजाम किया गया है। 150 लोगों के एक साथ बैठने की व्यवस्था की गई है। तकनीक से लेकर सारा सामान जर्मन से मंगाया गया है।

ट्रैफिक पार्क

उत्तरी हिस्से में आम नागरिकों और बच्चों को ट्रैफिक नियमों से परिचित कराने केलिए ट्रैफिक पार्क तैयार किया जा रहा है। इस पार्क में ट्रैफिक नियमों को चित्रित किया जाएगा। पार्क बनकर तैयार होगा तो यहां लोग घूमने के साथ ट्रैफिक के मामले में शिक्षित भी होंगे।

बच्चों के लिए खासा खर्च

पार्क में बच्चों के लिए करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। पार्क के उत्तरी हिस्से में स्केटिंग प्लेटफॉर्म तैयार किया जा रहा है। इसके दोनों तरफ सांप-सीढ़ी और चेस का प्लेटफार्म तैयार किया जा रहा है। जिस पर आदमकद गोटियां और रखी जाएंगी, जिसे सरका कर बच्चे खेल सकेंगे। वहीं बड़े बच्चों का पार्क डिवेलप किया जा रहा है, जिसमें झूला के अलावा विभिन्न प्रकार की खेल सामग्रियां रहेंगी।

दक्षिण हिस्से में एम्फीथिएटर

पार्क के दक्षिण हिस्से में एम्फीथिएटर विकसित किया जा रहा है। इस थिएटर में 1500 लोगों के बैठने की व्यवस्था की जा रही है। थिएटर का इस्तेमाल नाटक आदि के अलावा विविध आयोजनों के लिए किया जा सकेगा।

जोडियक पार्क पर करोड़ों खर्च

पार्क के दक्षिणी हिस्से में जोडियक पार्क विकसित किया जा रहा है, जिसमें राशि के हिसाब से विभिन्न मुद्राएं निर्मित की गई हैं। इस उद्यान पर भी करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं। इसके अलावा ग्रह-मंडल का विकास किया जा रहा है, जो तारामंडल की तर्ज पर होगा।

बुजुर्गों के लिए हट्स

उद्यान के दक्षिणी हिस्से में सीनियर सिटीजन हट्स यानी बुजुर्गों के लिए झोपड़ीनुमा संरचना तैयार की जा रही है, जिसमें उनके बैठने और लेटकर आराम करने की व्यवस्था होगी। इसी से लगा एक योगा पार्क भी होगा।

रंगीन मछलियों का तालाब

रंगीन मछलियों का एक छोटा तालाब विकसित किया जाएगा, जिसमें दुनियाभर की रंग-बिरंगी मछलियों को पाला जाएगा। अफसरों का कहना है कि यह पूरे प्रदेश के लिए कौतुहल का विषय बनेगा।

फुलवारी यानी गार्डन आफ फ्रेगरेंस

सेंट्रल पार्क के उत्तरी और दक्षिणी दोनों हिस्सों में दो फुलवारियां विकसित की जाएंगी, जिसे गार्डन ऑफ फ्रेगरेंस नाम दिया गया है। इन पार्क में खुशबूदार फूल के पौधे लगाए जाएंगे।