On a mission to habituate Nayaraipur….citizens' initiative

नया रायपुर : महत्वपूर्ण तथ्य

  • नया रायपुर इक्कीसवीं सदी के भारत का पहला सुव्यवस्थित और योजनाबद्ध बसाहट वाला पर्यावरण हितैषी (ईकोफ्रेंडली) शहर होगा। इतना ही नहीं बल्कि स्वतंत्र भारत में गुजरात के गांधीनगर, पंजाब-हरियाणा के चण्डीगढ़ और ओड़िशा के भुवनेश्वर के बाद यह देश का चौथा सुव्यवस्थित राजधानी शहर होगा।

 

  • नया रायपुर का निर्माण लगभग आठ हजार हेक्टेयर के रकबे में किया जा रहा है इसका लगभग 27 प्रतिशत ग्रीन बेल्ट होगा। परियोजना क्षेत्र में छोटे-बड़े 55 तालाब हैं, जिन्हें बेहतर ढंग से संरक्षित किया जा रहा है।

 

  • नया रायपुर में बिजली की भूमिगत लाइनें बिछाई गई है। पेयजल आपूर्ति और सिवरेज लाइनें भी भूमिगत हैं। बिजली की बचत के लिए यहां एलईडी लाईटिंग की जा रही है। जल आपूर्ति महानदी से की जाएगी। नया रायपुर से 23 किलोमीटर पर ग्रामी टीला में इंटेकवेल बनाया गया है और जल आपूर्ति शुरू भी हो गई है।

 

  • प्रधानमंत्री माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी ने देश में 100 नये स्मार्ट शहर बनाने की जो घोषणा की है, उनकी उसी घोषणा के अनुरूप छत्तीसगढ़ सरकार नया रायपुर को स्मार्ट शहर के तौर पर भी विकसित करने जा रही है। दिनांक 10 जून 2014 को मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने नई दिल्ली में इस संबंध में माननीय प्रधानमंत्री जी के साथ बैठक में चर्चा भी की है। उन्होंने पूरी मदद का आश्वासन दिया है।

 

  • मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने 15 जुलाई 2014 को नई दिल्ली में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री माननीय डॉ. हर्षवर्धन जी से मुलाकात की थी। बैठक में केन्द्रीय स्वास्थ्य मंत्री ने नया रायपुर में स्कूल ऑफ पब्लिक हेल्थ की स्थापना के लिए सैद्धांतिक सहमति व्यक्त की।
  • अफगानिस्तान ने भी छत्तीसगढ़ के नया रायपुर को एक मॉडल के रूप में लिया है और उसी पैटर्न पर नया काबुल के निर्माण के लिए अफगान सरकार योजना बना रही है। अभी पिछले माह जून 2014 में अफगानिस्तान के अधिकारियों का छह सदस्यीय डेलीगेशन यहां नया रायपुर के अध्ययन के लिए आया था। छत्तीसगढ़ के अधिकारियों ने उन्हें सम्पूर्ण प्रोजेक्ट का अवलोकन कराया और भारत स्थित अफगान मिशन के लोगों के लिए 13 दिनों की प्रशिक्षण कार्यशाला भी यहां रखी गई।

 

  • आंध्रप्रदेश का पुनर्गठन कर तेलांगना राज्य बनाया गया है। अब सीमांध्र (आंध्र) वालों को नई राजधानी का निर्माण करना है। वहां की सरकार ने भी नया रायपुर प्रोजेक्ट में दिलचस्पी दिखाई है। वहां के अधिकारियों का अध्ययन दल भी नया रायपुर आकर इस प्रोजेक्ट की स्टडी कर चुका है।
  • नया रायपुर छत्तीसगढ़ के वर्तमान राजधानी रायपुर शहर के विस्तार के रूप में बनाया जा रहा है, क्योंकि राज्य निर्माण के बाद वर्तमान रायपुर शहर में व्यापार व्यवसाय और औद्योगिक गतिविधियां बढ़ी हैं। राज्य और केन्द्र सरकार के कई नये कार्यालय खुले हैं। अतः जनसंख्या और यातायात का भी दबाव बढ़ा है।
  • विश्वस्तरीय जंगल सफारी का निर्माण 202 हेक्टेयर में किया जा रहा है, जो एशिया की सबसे बड़ी जंगल सफारी होगी। सेंट्रल पार्क बनाया जाएगा। आजाद भारत के प्रथम उद्योग मंत्री स्वर्गीय पंडित श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर 100 एकड़ के रकबे में उद्योग एवं व्यापार परिसर बनाया जा रहा है।
  •  
  • लॉजिस्टिक्स हब का निर्माण 100 एकड़ में किया जा रहा है। जहां रेल, सड़क और हवाई मार्ग द्वारा माल परिवहन की व्यवस्था रहेगी। इस हब में एक हजार ट्रकों की पार्किंग की भी व्यवस्था रहेगी।
  • राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर के शैक्षणिक संस्थान वहां रहे हैं। जन्मजात हृदय रोगियों के निःशुल्क इलाज और ऑपरेशन के लिए सत्य साई संजीवनी अस्पताल शुरू हो गया है। निकट भविष्य में वहां एम्स द्वारा कैंसर अनुसंधान केन्द्र की भी स्थापना की जाएगी।
  • नॉलेज पार्क बनवाया जा रहा है। आईआईएम और ट्रिपल आईटी का भी वहां निर्माण हो रहा है।
  • हिदायतुल्ला नेशनल लॉ यूनिवर्सिटी वहां संचालित होने लगी है।
  • सार्वजनिक परिवहन सेवा को बढ़ावा दे रहे हैं। इसके अंतर्गत बस रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (बीआरटीएस) का काम शुरू हो गया है। इसमें 50 एयरकंडिशन बसें चलेंगी।
  • शहीद वीर नारायण सिंह के नाम पर ग्राम परसदा में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट स्टेडियम का निर्माण हो चुका है, जहां पिछले साल आईपीएल मैच का सफल आयोजन किया गया।
  • पुरखौती मुक्तांगनप्रदेश की समृद्ध लोक संस्कृति को गरिमामय ढंग से प्रस्तुत करने के लिए  दो सौ एकड़ में परिसर का विकास। इसका लोकार्पण तत्कालीन राष्ट्रपति माननीय श्री .पी.जे. अब्दुल कलाम के हाथों सन 2006 में हो चुका है।

 

  • नया रायपुर में वर्ष 2031 तक पांच लाख 60 हजार की अनुमानित जनसंख्या को बसाने का लक्ष्य और इसके अनुरूप बनाया गया है मास्टर प्लान।
  • मंत्रालय (महानदी भवन) और विभागाध्यक्ष भवन (इन्द्रावती भवन) में सरकारी काम-काज शुरू। मंत्रालय की एक चौथाई बिजली की आपूर्ति सौर ऊर्जा प्रणाली से की जा रही है।
  • राष्ट्रपति श्री प्रणब मुखर्जी ने छह नवम्बर 2012 को मंत्रालय (केपिटल कॉम्पलेक्स) का किया था लोकार्पण।
  • छत्तीसगढ़ गृह निर्माण मंडल की आवासीय कॉलोनियों का तेजी से हो रहा है निर्माण। सेक्टर 27 में कई परिवारों ने बसाई गृहस्थी।
  • नया रायपुर परियोजना क्षेत्र में कुल 40 सेक्टर हैं, जिनमें 21 आवासीय सेक्टर हैं।
  • माना स्थित स्वामी विवेकनंद विमानतल नया रायपुर से मात्र 12 किलोमीटर पर है, जहां नई दिल्ली, मुम्बई, भोपाल, हैदराबाद, इंदौर, राची, नागपुर, बेंगलोर आदि प्रमुख शहरों से एयर कनेक्टिविटी है।
  • नया रायपुर को रेल कनेक्टिविटी से भी जोड़ा जा रहा है। इसके लिए मंदिर हसौद से ग्राम केन्द्री तक लगभग 18 किलोमीटर की ब्रॉड गेज रेल लाइन निर्माण की प्रक्रिया शुरू हो गई है। यह रेल लाइन नया रायपुर को रायपुर-विशाखापटनम की वर्तमान रेल लाइन से जोड़ेगी।
  •  
  • परियोजना क्षेत्र में कुल 41 गांव शामिल। इनमें से प्रथम लेयर में 13 गांव और द्वितीय लेयर में 28 गांव हैं।
  • पुनर्वास व्यवस्थाकेवल एक गांव राखी को नये सिरे से बसाया गया है। शेष 40 गांव यथावत रखे गए हैं और सभी 41 गांवों के लिए नया रायपुर विकास प्राधिकरण (एनआरडीए) द्वारा ग्राम विकास योजना शुरू की गई है। इसके अंतर्गत इन गांवों में ग्रामीणों की सुविधा के लिए विभिन्न कार्य कराए जा रहे हैं।
  • इन सभी 41 गांवों के गरीब परिवारों के लिए 10 गांवों में 888 बीएसयूपी मकान बनाए गए है, जिनका आवंटन भी शुरू हो गया है।
  • पुनर्वास कार्यक्रम के तहत दिसम्बर 2013 तक इन गांवों के लगभग डेढ़ हजार युवाओं को हमने राज मिस्त्री, इलेक्ट्रिशियन,मशरूम उत्पादन, वासिंग पाउडर उत्पादन, मोमबत्ती उत्पादन, कम्प्यूटर प्रशिक्षण, मोबाइल मरम्मत आदि से संबंधित कार्यों का प्रशिक्षण दिया जा चुका है। इसके लिए छत्तीसगढ़ निर्माण अकादमी की स्थापना की गई है।

 

  • पुनर्वास पैकेज के तहतपरियोजना क्षेत्र के प्रत्येक किसान को उसकी जमीन की कीमत के रूप में प्रति हेक्टेयर 25 लाख रूपए का भुगतान किया गया है। इसके अलावा अतिरिक्त पुनर्वास पैकेज के रूप में 15 हजार रूपए प्रति एकड़ की दर से अगले बीस वर्ष तक राशि देने का प्रावधान जिसमें हर साल 750 रूपए की वृद्धि की जाएगी।