स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में मास्टर सिस्टम इंटीग्रेटर की भूमिका निभाने के लिए इंफोसिस, आईबीएम, विप्रो जैसी नामी कंपनियों ने रुचि दिखाई है। गुरुवार को सिस्टम इंटीग्रेशन फील्ड में विश्व स्तर पर काम कर रही 31 कंपनियों के प्रतिनिधियों ने अपना प्रेजन्टेशन नया रायपुर विकास प्राधिकरण के अफसरों के सामने में दिया। इस दौरान उन्होंने सिस्टम इंटीग्रेट करने के लिए उनकी कंपनी द्वारा इस्तेमाल की जा रही लेटेस्ट तकनीक, सर्विसेस आदि का ब्योरा देकर अपनी क्षमता का प्रदर्शन किया। एक कंपनी के प्रतिनिधि को 20 मिनट से आधे घंटे तक का समय दिया गया। इन कंपनियों का प्रेजन्टेशन देर रात तक चलता रहा। इंटेलिजेंट सिस्टम वाला देश का पहला शहर बनेगा नया रायपुर स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट के तहत नया रायपुर की हर सड़क, बिजली, पानी, सीवरेज, ट्रांसपोर्ट से लेकर तमाम सभी सेवाओं के लिए इंटेलिजेंट सिस्टम डिवेलप करने वाला पहला शहर होगा। एनआरडीए के सीईओ अमित कटारिया ने बताया कि देश में स्मार्ट सिटी का कॉन्सेप्ट आठ महीने पहले आया है, लेकिन उनकी टीम इस पर पिछले दो साल से काम कर रही है। उल्लेखनीय है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने प्रधानमंत्री बनने के बाद देश में 100 शहरों को स्मार्ट सिटी के रूप में विकसित करने की घोषणा की थी। एनआरडीए के अफसरों की मानें तो नया रायपुर देश में पहला पूरी तरह से विकसित स्मार्ट सिटी होगा। वर्कशॉप एक दिन और बढ़ीस्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट में दर्जनभर कंपनियों ने और रुचि दिखाई है। इसके चलते वर्कशॉप और प्रेजन्टेशन एक दिन के लिए बढ़ा दिया गया है। पिछले दो दिनों रजिस्टर्ड हुई कंपनियों को शुक्रवार को अपना प्रेजन्टेशन दिखाने का मौका दिया जाएगा। तीन दिनों के मंथन के बाद स्मार्ट सिटी प्रोजेक्ट को कैसे धरातल पर उतारना है, इसका खाका तैयार किया जाएगा। इन मामलों पर दिया प्रेजन्टेशन – लैंड मैनेजमेंट – सिटी सर्विलेंस सिस्टम- युटिलिटी मैनेजमेंट सिस्टम और स्काडा- इंटेलिजेंट ट्रांसपोर्ट सिस्टम- सिटी गाइड मैप जो वेब ब्राउजर पर उपलब्ध हो- शहर में टच स्क्रीन- वाई-फाई शहर स्तर पर – शहर में कहां-कहां डिस्प्ले बोर्ड, लगें जो समय और अलग-अलग सेवाओं की जानकारी दें – इंटेलिजेंट लाइटिंग सिस्टम- बारिश के पानी का इंटेलिजेंट ड्रेनेज सिस्टम – इलेक्ट्रिक चार्जिंग स्टेशन .