वन विभाग नया रायपुर में देश का दूसरा सबसे बड़ा बॉटनिकल गार्डन बनाने जा रहा है। विभाग ने इसके लिए सर्वे का काम पूरा कर लिया है। इसके बाउंड्रीवॉल, तालाब निर्माण और नलकूप खनन पर करीब 10 करोड़ रुपए खर्च होंगे। राज्य कैम्पा निधि की स्टीयरिंग कमेटी की बैठक में इस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी गई है। नया रायपुर में बन रही जंगल सफारी से लगे हुए 136 हेक्टेयर में बॉटनिकल गार्डन प्रस्तावित है। इसकी मिट्टी का परीक्षण कर लिया गया है। रायपुर वन मंडल इसकी बाउंड्रीवॉल बनाएगा। बॉटनिकल गार्डन से लगे तालाब का गहरीकरण व सौंदर्यीकरण किया जाएगा। रायपुर वन मंडल ने इसके लिए कैम्पा निधि से राशि मांगी, जिसे राज्य कैम्पा निधि की स्टीयरिंग कमेटी की पिछले दिनों मंत्रालय में हुई बैठक में मंजूर कर लिया गया। विभागीय सूत्रों के मुताबिक स्टीयरिंग कमेटी के अध्यक्ष और मुख्यमंत्री डॉ.रमन सिंह ने वन विभाग के अफसरों को बॉटनिकल गार्डन को जल्द पूरा करने के निर्देश दिए। वहीं कैम्पा प्रभारी बीके सिन्हा सहित संबंधित विभाग के अफसरों को राशि आवंटित करने को कहा। बताया जा रहा है कि बॉटनिकल गार्डन के निर्माण की प्रक्रिया काफी धीमी है। इस पर डॉ. सिंह ने नाराजगी भी जताई थी। डॉ. सिंह के निर्देश के बाद अब काम में तेजी आने की संभावना जताई जा रही है। बनेगा डीपीआरविभागीय सूत्रों के मुताबिक रायपुर वन मंडल ने नया रायपुर विकास प्राधिकरण के चीफ इंजीनियर के साथ मिलकर सर्वे किया था। इसके बाद बाउंड्रीवॉल, तालाब निर्माण और नलकूप खनन के लिए प्रस्ताव बनाया गया। राज्य सरकार से राशि मिलने के बाद तीनों कार्य किए जाएंगे। इसके बाद रायपुर मंडल द्वारा डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट (डीपीआर) बनाकर सरकार को प्रस्ताव दिया जाएगा। प्रस्ताव को मंजूरी मिलने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। राज्य सरकार से बजट मिलने के बाद बाउंड्रीवॉल, तालाब निर्माण और नलकूप खनन के लिए टेंडर जारी किया जाएगा। टेंडर में जिसका चयन होगा, उसे काम दिया जाएगा। तीनों काम होने के बाद डीपीआर बनाकर सरकार को प्रस्ताव देंगे। फिलहाल बॉटनिकल गार्डन के लिए सर्वे का काम पूरा कर लिया गया है। एमबी गुप्ता, एसडीओ, रायपुर वन मंडल .